प्रेम पर कविता। Love poems in Hindi। Love Kavita in Hindi


प्रेम पर कविता। Love poems in Hindi। Love Kavita in Hindi


हेल्लो दोस्तो कैसे हो आप सब आज मै आपके लिए प्रेम पर कविता। Love poems in Hindi लेकर आया हूं आप सब जानते हो प्रेम का हमारे जीवन मै बहुत महत्व है ओर हम अपनी भावनाओं को कविता के माध्यम से वक्त करते है इन प्रेम भरी कविताओं से आपको अपने प्यार का अहसास जरुर होगा तो चलिए शुरू करते आज की पोस्ट
Hindi Love poem।

प्रेम पर कविता। Love poems in Hindi। Love Kavita in Hindi


प्रेम पर कविता। Love poems in Hindi

Content:
1. Hindi Love poem for girlfriend
2. Hindi Love poems for dost
3. प्रेम पर कविता, Hindi Love poem
4. Love poem in hindi
5. Best Love poem for girlfriend
6. प्रेम पर हिंदी कविता
7. Love poem in Hindi for love
8. Pyar par Kavita
9. Beautiful Love poem in Hindi


1. Hindi Love poem for girlfriend
     प्रेम पर हिंदी कविता            

जब चांद सा सवेरा होता है सूरज की किरण निकलती है
जब हम उससे मिलने के लिए इतने आतुर हो जाते है
नीद नहीं आती रातो में सुबह जल्दी उठ जाते है
मिल नहीं पाते है उससे कुछ कह नहीं पाते है उससे 
तब एक पगली लड़की के बिन जीना गद्दारी लगता है,
और उस पगली लड़की के बिन मरना भी भारी लगता है।।


जब बात हम उससे करते है वो हस देती है बातो पर 
पागल कहकर प्यार जताना उसका ये ढंग अच्छा लगता है
तब एक पगली लड़की के बिन जीना गद्दारी लगता है 
और उस पगली लड़की के बिन मरना भी भारी लगता है।।


जब बात नहीं वो करती है खाना नहीं खाया जाता है
भूख प्यास नहीं लगती है पानी नहीं पिया जाता है
जब घर वाले कहते है मुझसे खाना क्यू नहीं खाता है
केसे बताऊं उनको की अब कुछ अच्छा नहीं लगता है 
तब एक पगली लड़की के बिन जीना गद्दारी लगता है,
और उस पगली लड़की के बिन मरना भी भारी लगता है।।


जब में कहता हूं तुम तारीफ करो वो कहती है तुम अच्छे हो
तारीफ मुझे नहीं आती है, तब में कहता हूं तुम बच्ची हो
फिर भी उसकी इतनी सी तारीफ भी अच्छी लगती है 
तब एक पगली लड़की के बिन जीना गद्दारी लगता है
ओर उस पगली लड़की के बिन मरना भी भारी लगता है।।

By Divesh


2. Hindi Love poems for dost

इत्तेफाक से मिले थे अनजाने बनकर 
कब जान बन गए पता ही नहीं चला
मिलते तो है सभी लोग यहां पर 
पर तुम कब खास बन गए पता ही नहीं चला


तुमसे बात करके अच्छा लगता है 
तुम गुस्सा करती हो तो और भी अच्छा लगता है
हर बात पर  मुझे डफर बोलना तुम्हारी आदत है 
तुम रूठ जाओ तो मनाना मेरी आदत है


मुझे चिढाना तुम्हारी आदत है 
कभी कभी तुम पर गुस्सा भी आता है
पर ज्यादा देर तक गुस्सा हो नहीं पाता हूं
अपनी हर एक बात तुमको बताता हूं


दोस्त तो है बहुत पर तुम उन सब में अनमोल हो
मै तुम्हारा दोस्त हूं ये तुम्हारी किस्मत है
हर बात पर मजाक करना तुम्हारी आदत है ।
अगर ना समझू में कुछ तो समझा देती हो


तुम रहो खुश हमेशा यही हमारी तमन्ना है
साथ रहोगी हमेशा पता है मुझे 
दूर भले ही हो पर हमेशा दिल में रहती हो
तुम वो दोस्त हो जो सबसे पास नहीं होती 
बुरा लगता है उस दिन जिस दिन तुमसे बात नहीं होती


तुम्हारी खुशियों की तलाश हमेशा रहती है 
रहो सदा हसती यही चाहत रहती है 
हमारी खुशियां तुम्हे मिल जाए रब से यही आस रहती है
लफ़्ज़ों में लिख दू तुम ऐसी शक्सियत कहां हो 
कदर दिल से है इसलिए तुम वहां हो

By Divesh


3. प्रेम पर कविता, Hindi Love poem

उसके आने के बाद मैने जीना सीखा है
उसके प्यार में मैने रहना सीखा है
उसके बिना कोई नहीं था मेरा
मैने उससे ही प्यार का मतलब सीखा है।।


वो मुझे रूह के पास लगती है
मुझे मेरी जान लगती है
उसके बिना कोई नहीं है मेरा
वो मुझे इस पूरे जहां मै 
इकलौता चांद लगती है।।


मैं उसे अपनी जान कहता हूं
दिल की धड़कन कहता हूं
मेरे लिए मेरी किस्मत का सितारा है वो
मैं उसे अपने जहां का खुदा कहता हूं।।


उदास कभी होती है तो मना लेता हूं
मैं उसे हर पल याद रखता हूं
कभी नहीं भूलता मै उसे
मैं उसे अपने दिल के पास रखता हूं।।

By Divesh


4. Love poem in hindi

हर दर्द मैंने तुम्हें दिया ..
हर मलहम तुमने लगाया !🦋

हर आँशु तुम्हारी आँखों में आया..
पर मुझे कभी ना रुलाया ।🦋

हर दर्द दिल में छुपाया..
मेरे दर्द को भी अपना साहिल बनाया!🦋

मत करो इतना एतबार मुझपे..
अक्सर दिल मैंने तोड़ा!🦋

संभल जाओ आज ही ..
वरना कल बर्बादी का रोना है!🦋

नहीं शक मुझे तुम्हारे इश्क़ पे..
शक मुझे खुद पे होना है !🦋

मुझे पसंद है सिर्फ दोस्ती ..
मुझे प्यार में घुट घुट के जीना है।🦋

रहो साथ तुम चाहती हूँ..
पर खुले आसमान में उड़ना है।🦋

मत हुआ करो उदास तुम..
वरना मेरा हर पल दर्द में जीना है !🦋

तुम्हारे हर आँशु का हिसाब..
मुझे खून के कतरे से देना है!🦋

अब जरा सुनो!
कैसा इश्क़ कर रहे हो ये तुम..
जहाँ सिर्फ तुम्हें रोना है!🦋


5. Best Love poem in Hindi

उसका सोने से पहले एक बार मेरी प्रोफाइल चैक करना...
ये भी तो इश्क़ है!!🦋

मेरे लिखे हर लफ्ज को बार बार पढ़ना..
ये भी तो इश्क़ है!!🦋

मेरा किसी और से बात करने पे चुप हो जाना..
ये भी तो इश्क़ है!!🦋

तुम्हारा मेरी आईडी पे घूम के सोना..
ये भी तो इश्क़ है!!🦋

मेरी हर पोस्ट को बार बार पढ़ना ..
ये भी तो इश्क़ है!!🦋

मेरे हर मैसेज का बेसब्री से इंतेजार ..
ये भी तो इश्क़ है!!🦋

"कहाँ हो यार जल्दी आवो" ये बेसब्री दिखाना..
ये भी तो इश्क़ है!!🦋

"कोई पसंद है तो बता दो" मायूस होके कहना..
ये भी तो इश्क़ है!!🦋

"तुम खुश हो ,तो मैं भी खुश" तकलीफ छुपा ये कहना..
ये भी तो इश्क़ है!!🦋

और सुनो..!!
हमें रास नहीं आया तुम्हारा झुक के इज़हार करना..
कैसे देखूं तुम्हारी चाहत का गिरना..
आख़िर ये भी तो इश्क़ है!!🦋


6. प्रेम पर हिंदी कविता

मिल मुझे बनारस की शाम की तरह ..
थोड़ि ढलती हुई थोड़ि चाय के उफान की तरह..!🦋🦋

गलियों में चलना तुम शिव की तरह...
मैं देखूंगी तुम्हें शक्ति की तरह...!🦋🦋

घाट के उस छोर पे रहना तुम अहसास की तरह..
समेट लूँगी तुम्हें अपने दुप्पटे की तरह ..!🦋🦋

तुम तैरना मेरे दिल में नाव की तरह..
मैं डूबती रहूँगी तुम में पानी की तरह..!🦋🦋

तुम समेटते हो शर्ट की बाँहो को किसी महताब की तरह..
मैं तुम्हें ढूँढती हूँ खुद में ख्वाब की तरह..!!🦋🦋

तुम्हारा बालों में यूँ हाथ घूमना ,दिल में मचलता है इश्क़ की तरह..
मेरे झुमके बोलते है अब तेरी आवाज़ की तरह..!🦋🦋

यूँ ना सताया कर मुझे ,चाय के आखिरी घूँट की तरह..
मैं चाहती हूँ तुम्हें कुल्हड़ वाली चाय की तरह..!🦋🦋

मत घूम बनारस की गलियों में आशिक़ की तरह ..
मुझे मिल तो बनारसी इश्क़ की कहानी की तरह..🦋🦋

By Diksha Choudhary


7. Love poem in Hindi for love

ये अहसास  कुछ अलग सा है ..
इश्क भी नही ,मोहब्बत भी नहीं..
शायद इसे चाहत कहते है ..🦋

हम भी रातों में सोचने लगे है ..
अकेले में खुद से बतियाने लगे है ..
हमें नहीं पता ये इश्क होता क्या है ..
लोग कहते है हम बेवजहा मुस्कुराने लगे हैं ..🦋

किसी के लिए समय निकालने का जरिया हूँ..
किसी के लिए उसकी जरूरत ..
किसी के लिए उसकी आदत ..🦋
बस एक सख्श ने ..
जिंदगी जीने का नजरीया बदल दिया ..
उसके लिए उसकी आखिरी तलाश हूँ ..🦋

मोहब्बत.. इश्क .. प्यार..
ये सब फ़िज़ूल है मेरे लिए ..
मैं सिर्फ बेपनाह चाहतों को जानती हूं ..🦋

तेरी मोहब्बत का स्वाद भी कुछ हवा जैसा ही है
कम्भख्त सिर्फ छू के गुजरा है..
या महसूस हुआ है ..🦋

क्यों ना करूँ  गुरुर मैं खुद पे ..
मुझे उसने चाहा है ..जिसके चाहने वाले हजार थे ..🦋

सुनो ...!
बनारस की कुल्हड़ वाली चाय बन जाओ ना ..
हाथों में जकड़ के लबों से छूना है ..🦋

By Diksha Choudhary


8. Pyar par Kavita

ऐ सख्श तेरा साथ मुझे हर शक्ल में मंजूर है ..
यादें हो कि खुशबू हो ,यकीं हो की गुमान हो !!🦋🦋

देखा है मेरी नजर ने इस पूरी दुनियां को
पर कोई ना इसमें समां पाया ..
जानती हूँ मैं तुमको रब ने मेरे ही लिए ..
ज़मीन पे है उतारा ..🦋🦋

प्यार के पन्नो से भरी किताब हो तुम ..
रिश्तों के फूलों में गुलाब हो तुम ..
कुछ लोग कहते है कि प्यार सच्चा नहीं होता ..
उन लोगों के हर सवाल का जवाब हो तुम ..🦋🦋

तुम्हारा इस मासूमियत से पूछना की याद करते हो क्या मुझे ?
कैसे बताएं भूले ही ना हम तुम्हें तो याद कहाँ से आये ..🦋🦋

इश्क़ के शहर में बहुत सी छत थी ...
पर उनकी  पतंग सिर्फ मेरी छत पे गिरी ..🦋

उसकी मोहब्बत मेरा गुमान है ..
उसकी चाहत मेरा ईमान है ..
डरती नहीं हूं मैं किसी से ..
मेरे हाथ में जो उसका हाथ है ..🦋🦋

सुनो...
यूँ सामने आके ना बैठा करो ..
दिल की बाते अक्सर जुबां पे आने से डर लगता ..🦋🦋

मिलो कभी मेरे शहर में ..
बैठ के दिल का हाल कहेंगे ..
कुछ तुम कहना कुछ हम कहेंगे ..🦋🦋

By Diksha Choudhary
         
       

9. Beautiful Love poem in Hindi

                                  

हमें कहाँ मालूम था इश्क़ होता क्या है..
बस एक तुम मिले और जिंदगी मोहब्बत हो गयी ..🦋

वो एक अजनबी है पर रूह के पास लगता है ..
मेरी तरह मुझे वो भी उदास लगता है ..
करूँ तलास तो हो शक वजूद पे उसके ..
जो आंखे बंद करूँ तो आस पास लगता है ..🦋

दिल में है जो बात होंठो पे आने दो ..
मुझे जज्बातों की लहरों में खो जाने दो ..
आदी हो चुकी हूं मैं तुम्हारी निगाहों की..
अपने निगाहों के समंदर में डूब जाने दो ..🦋

नजरें -करम मुझ पर इतना ना कर ..
की  तेरी मोहब्बत के लिए बागी हो जाऊं..
मुझे इतना ना पिला इश्क़ -ए- जाम की..
मैं इश्क़ के जहर की आदी हो जाऊं ..🦋

माँगी थी दुआ  मैंने रब से ..
देना कुछ ऐसा जो अलग हो सबसे ..
मिला दिया रब ने तुमको हमसे ..
और कहा - सम्हालो यही है अनमोल सबसे ..🦋

आपकी अहमियत हम आपको बता नहीं सकते ..
इस दिल में आपको आपकी जगह दिखा नहीं सकते
कुछ रिश्ते बेहद खास होते है ..इससे ज्यादा हम समझा नहीं सकते ..🦋

तेरी चुप्पी का सबब हम जानते है ..
लजरते होंठो की शिकायत हम जानते है ..
तेरी हिचकी भी दे रही है गवाही मोहब्बत की ..
तेरे पलकों की हरकत भी हम पहचानते हैं ..🦋

मुझे मोहब्बत करनी नहीं आती है ..
ओर तुम्हे मोहब्बत के सिवा कुछ नहीं आता ..
जिंदगी जीने के दो ही तरीके हैं ..
एक तुझे नहीं आता एक मुझे नहीं आता ..🦋

By Diksha Choudhary


Hindi Poem For Love, Love Kavita in Hindi, हिंदी प्रेम कविता, Hindi Prem Kavita, Beautiful Hindi Poem, Best Poems For Love.

Also read:

Holi par kavita

Teacher s day poems

Final words:

आपको ये  प्रेम पर कविता। Love poems in Hindi। Love Kavita in Hindi पर कविता कैसे लगी हम कॉमेंट करके जरुर बताए और इसे अपने दोस्तो ओर परिवार के साथ जरुर शेयर करे फिर मिलते है आपसे एक नई कविता के साथ, ये सारी कविताएं स्वरचित है अन्य ब्लॉग द्वार कॉपी करने पर हम कॉपीराइट क्लेम कर सकते है।

आपका बहुत बहुत धन्यवाद!


Tags

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.