Diwali essay in hindi।दिवाली पर निबंध

Diwali essay in hindi।दिवाली पर निबंध

Diwali essay in hindi: हैलो दोस्तों कैसे हो आप लोग आशा करता हूं ठीक होंगे आज की पोस्ट Diwali essay in hindi अब सबके के लिए बहुत ही इंट्रेस्टिंग होने वाली है खासकर के बच्चो के लिए दिवाली हमारी संस्कृति का एक मुख्य त्यौहार होता है। और इसे हर वर्ष नवंबर के महीने में बड़ी ही धूमधाम से मनाया जाता है।

और बच्चो को इस विषय के उपर निबंध लिखने को दिया जाता है। पर बहुत से बच्चे लिख नहीं पाते है। इसलिए मैं आज आप सब के लिए Diwali essay in hindi लेकर आया हु। इसमें आपको दिवाली के बारे में पूरी जानकारी भी मिल जाएगी और एक अच्छा निबंध लिखना भी आप सीख जाओगे इसे आप अपनी सुविधा के अनुसार ढाल सकते है। तो चलिए शुरू करते है।

Diwali essay in hindi।दिवाली पर निबंध

Diwali essay in hindi।दिवाली पर निबंध

1. Diwali essay in hindi:

दीपावली या दिवाली हमारी भारतीय संस्कृति का एक मुख्य त्यौहार है। जिसे भारत मैं हर वर्ष बड़ी धूमधाम से मनाया जाता है। दिवाली बुराई पर अच्छाई की जीत का प्रतीक है। जिस दिन श्री रामचंद्र जी ने रावण को मारा था और वो अयोध्या आया थे उसी दिन से दिवाली मनाई जाती है।

और उसी दिन सारी अयोध्या में खुशियों के दीपक भी जलाए रहे थे इसीलिए इसे दीपों का त्योहार भी कहा जाता है दिवाली के दिन सभी अपने घरों में लक्ष्मी जी का पूजन करते हैं और उनकी आराधना करते हैं ताकि उनके घर कभी भी धन-धान्य की कमी ना आए और श्री रामचंद्र जी की भी पूजा करते हैं ताकि दुनिया में सदैव अच्छा ही बनी रहे और सच्चे लोगों की हमेशा विजय होती रहे।

दिवाली मात्र एक त्यौहार भी नहीं है हमारी भारतीय परंपरा का एक अटूट हिस्सा है जिसे हम कभी भी भुला नहीं सकते और हर वर्ष इसकी आने की खुशी उतनी ही होती है। बच्चे बड़े बूढ़े और नवयुवक सभी में एक उत्साह होता है कि दिवाली आ रही है और हम दिवाली को बड़े ही धूमधाम से मनाएंगे और भारत में दिवाली बड़े ही धूमधाम से मनाई जाती है।

दिवाली पर हम नए कपड़े पहनते हैं और बहुत सारी मिठाईयां लाते हैं और सभी में बैठते हैं वह घर पर बहुत सारे पकवान खाने को मिलते हैं बच्चे पटाखे जलाकर खुशियां मनाते हैं और अपनी खुशी सभी लोगों में बांटते हैं जिससे कि उन्हें भी अच्छा लगता है इसलिए यह त्यौहार इतना अच्छा माना जाता है क्योंकि इसमें किसी पर भी कोई भेदभाव नहीं होता और सब एक समान होते हैं।

पढ़े: जल प्रदूषण पर निबंध

पर दिवाली जिस बात का हमें संदेश देती है कि हमें हमेशा सच्चाई की राह पर चलना चाहिए और उसी की विजय होती है पर कुछ लोग उस दिन भी इस बात को नहीं मानते हैं और वह धूम्रपान करते हैं और जुआ खेलते हैं शराब पीते हैं और वह इसी को दीवाली मनाना कहते हैं पर ऐसा बिल्कुल भी नहीं है दिवाली हमें यह चीजें नहीं सिखाती है दिवाली हमें शांत रहना सच बोलना और हमेशा सच्चाई की राह पर चलना सिखाती है यही मतलब दिवाली का है।

जब श्री रामचंद्र जी लंका को जीतकर अयोध्या में आए थे तो अयोध्या में इतना हर्ष और उल्लास था कि सभी लोगों ने उनका भव्य स्वागत किया था और सच्चाई के इस पावन पर्व को बड़े ही धूमधाम से मनाया था तब से ही दीवाली भारतवर्ष में एक महा पर्व के रूप में मनाया जाता है और मनाया जाता रहेगा।

दिवाली का इंतजार हर व्यक्ति को उतनी ही धूमधाम से और उतनी ही मन प्रसन्नता से होता है और जब भी दिवाली आती है उसके पहले ही सभी लोग अपनी अपनी तैयारी में जुट जाते हैं जैसे वह की सफाई करना घर की पुताई करना और अनावश्यक चीजों को घर से बाहर निकाल देना क्योंकि हमें दीपावली यही सिखाती है कि हमें स्वच्छता पर भी ध्यान देना चाहिए और इसीलिए दीपावली पर हम अपने सारे घर को स्वच्छ करते हैं और अच्छे से दीपावली मनाते हैं।

जिस दिन दीपावली होती है उस दिन हम नए नए कपड़े पहनते हैं और बाहर जाते हैं और अपने दोस्तों से मिलते हैं उन्हें दीपावली की बधाइयां देते हैं और फिर वापस घर आकर दीपावली की तैयारियों में जुट जाते हैं फिर लक्ष्मी जी का और गणेश जी का पूजन होता है और उसके बाद सब लोग साथ में बैठकर खाना खाते हैं और बच्चे फिर पटाखे चलाते हैं और खुशियां मनाते हैं।

भारतीय परंपरा में दीपावली के दिन किसी भी सामान खरीदना बहुत ही शुभ माना जाता है तो बहुत से लोग दीपावली के दिन वाहन खरीदते हैं और महिलाएं दीपावली के 1 दिन पहले धनतेरस के दिन घर का सारा सामान लेती है क्योंकि यह भी दीपावली का ही एक हिस्सा होता है और इस दिन भर में नए-नए सामान लाए जाते हैं और पुराने सामानों को बाहर निकाला जाता है इसीलिए धनतेरस के दिन हम धन की पूजा करते हैं और नए नए सामानों को घर में लेकर आते हैं।

दीपावली के बाद में गोवर्धन पूजा आती है जिसमें हम श्री कृष्ण की पूजा करते हैं क्योंकि उन्होंने अपनी उंगली पर गोवर्धन पर्वत को उठाया था और इसीलिए गोबर के गोवर्धन जी बनाकर उनकी पूजा की जाती है और उनसे सुख समृद्धि का आशीर्वाद लिया जाता है इस दिन को बहुत से गांव में बड़ी दीपावली के नाम से भी जाना जाता है और लोग इसे बड़ी ही धूमधाम से मनाते हैं।

अंततः नहीं कर सकते हैं कि दीपावली एक महापर्व है जो भारतीय परंपरा का हिस्सा है और इसे हर वर्ष बड़ी ही धूमधाम से मनाया जाएगा और मनाया जाता रहेगा पर हम सबको दिवाली से कुछ सीख लेना चाहिए जो कि हमारे जिंदगी में बहुत ही महत्वपूर्ण होती हैं दिवाली हमें सच बोलना सताती है दिवाली हमें बुराई के खिलाफ लड़ना सिखाती है और हमेशा सच का साथ देने पर हमारी जीत होगी इस बात की शिक्षा देती है।

अन्तिम शब्द: दोस्तों मैं आशा करता हूं आपको हमारा आज का आर्टिकल Diwali essay in hindi जरूर पसंद आया होगा अगर आपका कोई सवाल है तो आप हमें कमेंट करके पूछ सकते हैं हम उसका जवाब जरूर देंगे अब आपको समझ आ गया हुआ की दिवाली हमारी भारतीय परंपरा का एक कितना महत्वपूर्ण हिस्सा है।

अगर आपको दिवाली पर Diwali essay in hindi लिखने में परेशानी आती है तो आप हमारे इस निबंध की मदद से अपना खुद का अच्छा सा निबंध तैयार कर सकते हैं हमने सिर्फ इसमें आपको वह जानकारियां दी हैं जो कि महत्वपूर्ण है और दिवाली से संबंधित हैं आप इसके आधार पर अपना एक अलग निबंध तैयार कर लीजिएगा जिससे कि वह निबंध आपका खुद का हो।।

हमारे ब्लॉग पर आने के लिए वह पूरा लेख पढ़ने के लिए आपका बहुत-बहुत धन्यवाद हेलो अच्छा।


Tags

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.