Poem On Friendship In Hindi | दोस्ती पर कविता

Poem On Friendship In Hindi | Poem Of Friendship In Hindi

Poem On friend in Hindi:

poem for friend in hindi: हेलो दोस्तों कैसे हो आप लोग मैं आशा करता हूं कि आप सब ठीक होंगे आज मैं फिर आप सबके लिए Poem on friendship in hindi। poem of friendship in hindi कविताओं का एक अच्छा संग्रह लेकर आया हूं आज आप दोस्ती पर कविताएं सर्च कर रहे हैं तो यह पोस्ट आपके लिए बहुत ही जरूरी साबित हो सकती है मैंने इसमें दोस्ती पर बहुत ही खूबसूरत कविताएं लिखी हैं और मैं आशा करता हूं कि यह आपको बहुत ज्यादा पसंद आएगी तो चलिए बिना किसी देरी के हम आज की पोस्ट की शुरुआत करते हैं

Poem On Friendship In Hindi

Poem on friendship in hindi। poem of friendship in hindi

1. poem on friend in hindi

वह बचपन की दोस्ती भी कितनी खूबसूरत होती थी
हर तरफ सिर्फ खुशियां ही खुशियां होती थी
एक दूसरे से बेर भाव तो होता ही नहीं था
और जिंदगी में दोस्त के सिवा कुछ होता ही नहीं था
आज भी मुझे वह बचपन का जमाना याद आता है
जब भी याद करता हूं मैं गुजरा हुआ पल
मुझे वह दोस्त याद आता है
मिट्टी में खिला करते थे हम दोनों
उसके साथ बिताया हुआ हर लम्हा याद आता है
कितना खूबसूरत पल था वह मेरी जिंदगी का
मुझे वह दोस्ती का खूबसूरत लम्हा याद आता है
जब भी मैं उन लम्हों में खो जाता हूं
फिर मैं किसी से कहा मिल पाता हूं
पर वह यारी वही चली रही है
मुझे वह बचपन की दोस्ती मिल नहीं रही है
मैंने हमेशा उसे दिल से चाहा था
वह दोस्ती अब मुझे कहीं मिल नहीं रही है
दोस्ती क्या होती है मैंने बचपन में ही सीखा था
और मुझे याद आता है वह जमाना
जब मैंने दोस्त का हाथ पकड़कर चलना सिखा था
दोस्ती कितनी खूबसूरत थी
उस पल में यह मैंने कभी न सोचा था
और मैंने दोस्त को दिल से माना था अपना
मैंने उसे कभी भी पराया न समझा था
वह दोस्त था मेरी जिंदगी का सबसे अनोखा
मैंने उस दोस्ती में अपना बचपन जिया था!!

इन्हें भी पढ़े
गुरु पर कविता
प्रेम पर कविता
शिक्षक दिवस पर कविता
होली पर कविता

2. poem for friend in hindi

हम कब बड़े हो जाते हैं हमें पता नहीं चलता
दोस्त कब अपने से पराए हो जाते हैं हमें पता नहीं चलता
दोस्त छोड़ कर चले जाते हैं हमें उसका अनुमान भी नहीं होता पढ़ाई के लिए शहर से दूर चले जाते हैं
और फिर दोस्तों से मिलना नहीं होता
वह बातें पुरानी हो जाती हैं वह यादें पुरानी हो जाती हैं
और फिर उनसे मैं जो नहीं होता धीरे-धीरे वह हमें भूल जाते हैं और फिर हमारा उठना बैठना नहीं होता
वह चाय की चुस्की हमें याद आती है
फिर वापस से वह जमाना नहीं होता
उनके बाद मिल तो जाते हैं और भी लोग
पर उन जैसा याराना नहीं होता
मैं कैसे कह दूं दोस्ती मेरी सच्ची नहीं है
दोस्ती के बिना तो मेरा कुछ नहीं होता
मेरे दोस्त मुझे आज भी याद आते हैं
उनके बिना मेरा गुजारा नहीं होता
उन्होंने हर समय मेरा साथ दिया है
उनके बिना मेरा दिन दिन नहीं होता
हर समय मेरे साथ खड़े रहते थे वह
उनके बिना मेरा कोई काम नहीं होता
आज वह सब चले गए हैं मुझसे दूर
और देखो फिर मेरा किसी से
बात करने का मन नहीं होता
जब उदास रहता था मैं वह मुझे हंसाते थे
फिर मुझे उनसे कोई शिकायत नहीं होता
सब उलझ गए हैं अपने कामों में
अब मिलने का किसी के पास वक्त नहीं होता
दोस्ती तो रही है अभी जिंदा कहीं ना कहीं दिलों में
पर अब वह दोस्त मेरा दोस्त नहीं होता!!

3. poem on friendship in Hindi

मैंने उसको उसको कितना दिल से चाहा था
मैंने उस दोस्त को कितना अपना माना था
मैंने हमेशा दिया था उसे तोहफा खुशियों का
मैंने उसे अपने दिल और जिगर जान से दोस्त माना था
जब भी उसी जरूरत पड़ी थी पैसों की
मैंने अपना हाथ बढ़ाया था
जब मेरे घर पर मुसीबत थी वह मुझसे मिलने आया था
दोस्ती ऐसी ही तो होती है
हम दोनों ने एक दूसरे के साथ वक्त बिताया था
और फिर दोस्ती ऐसे ही बढ़ती चली गई हमारी
और हम दोनों ने फिर एक नया जहान बनाया था
दोनों घूमने जाते थे मोटरसाइकिल से
और हमने दोस्ती का एक नया विशाल बनाया था
कॉलेज में रहे हम साथ-साथ पढ़े
हमने स्कूल में भी साथ निभाया था
हर मुश्किल परेशानी में एक दूसरे के साथ थे
हमने एक दूसरे को अपना हमसफर बनाया था
अभी भी नहीं आई हमारी दोस्ती के बीच में दरार
हमने दोस्ती को इतना मजबूत बनाया था
पर धीरे-धीरे दोस्त हम चले हो जाते हैं
और फिर वह हमसे दूर चले जाते हैं
और फिर भी हमने उसके अलावा
किसी और को नहीं चाहा था
उसकी दोस्ती और मेरी दोस्ती कुछ ऐसी थी
जिसे हम दोनों को भगवान ने एक दूसरे के लिए ही बनाया था दोस्ती में भी प्यार होता है यह उसने कभी नहीं जताया था
पर वह करता था मुझसे बहुत प्यार
ये उसने नकभी नहीं बताया था
जब मुझे जरूरत थी उसकी
वह हर वक्त मेरे काम आया था
हां वह मेरा दोस्ती था
जिसने मेरे लिए सब कुछ किया था
और उसने जब जब मुझे जरूरत पड़ी
अपना साथ दिया था!!

4. Poem of friendship in Hindi

दोस्त मुझे तुम आज भी याद आते हो
वह बताया हुआ लम्हा मुझसे नहीं बुलाए जाते हो
तुम चले गए हो मुझसे दूर फिर
तुम क्यों लौट कर वापस नहीं आते हो
और कॉलेज की यारी और वह क्या दिन थे
हमारे वह तुम क्यों नहीं मुझे बताते हो
कभी लड़की आई नहीं हमारे बीच में
फिर क्यों लड़ाई झगड़ा बढ़ाते हो
मैंने तुम्हें हमेशा अपना दिल से छोटा भाई समझा
फिर तुम क्यों मुझसे दोस्ती नहीं निभाते हो
आज भी याद है मुझे वह वक्त जब तुम मेरे काम नहीं आते हो मैंने हमेशा तुम्हारा साथ दिया
फिर भी तुम मेरे साथ धोखेबाजी कर जाते हो
मैंने कितना चाहा था और माना था तुम्हें
पर तुम मेरी दोस्ती पर फिर शक कर जाते हो
वह लम्हे मुझसे भुलाए नहीं जाते
और फिर तुम मुझे खुद से अलग कर जाते हो
और तेरी दोस्ती को मैंने खुदा माना था मेरे दोस्त
फिर तुम मुझसे वही दगा कर जाते हो
फिर मैं नहीं करता किसी से दोस्ती और बात
फिर तुम मुझसे मिलने क्यों आते हो
और मैं जान चुका हूं अब तुम्हारी सच्चाई
फिर भी तुमसे कुछ नहीं कहता तो
फिर तुम मुझे क्यों सताते हो
उस दोस्त तुम मुझसे दूर ही रहना मुझसे कुछ ना कहना
और यह मुझसे दोस्ती फिर तुम क्यों निभाते हो!!

5. poetry on friendship in hindi

वह कॉलेज का जमाना याद आता है
वह हसीन पल मुझे आज भी याद आता है
वह दोस्तों के साथ घूमना फिरना याद आता है
वह उनके साथ बाहर आना जाना याद आता है
चाय की टपरी पर बैठकर वो चुस्की लेना याद आता है
आज भी मुझे वो गुजरा जमाना याद आता है
हम कहां से कहां पहुंच गए
दोस्ती का मुझे वह अफसाना याद आता है
कुछ भी होता था वह तुरंत आ जाता था
वह मुझे दोस्त मेरा आज भी याद आता है
वह कहीं मशरूफ हो गया है अपनी जिम्मेदारियों में
फिर भी मुझे वह भूल नहीं पाता है
पर अब वह वक्त कहां मिल पाता है
कभी-कभी मिल लेते हैं हम एक दूसरे से
पर फिर भी वह मजा कहा आता है
एक दोस्त मिल जाता है तो क्या हुआ
दूसरा नहीं मिल पाता है
कभी साथ में वक्त बताया करते थे बहुत सारा
अब थोड़ा सा समय भी नहीं मिल पाता है
जिंदगी हमें कहां ले जा चुकी है
यह हमें पता भी नहीं चल पाता है
हम सब एक दूसरे से दूर हो जाते हैं
यह हमें समझ ही नहीं आता है
दोस्ती ऐसे ही बढ़ती जाती है
और जब रिश्ते खत्म हो जाते हैं पता ही नहीं चलता है
वह पढ़ाई के लिए दूर चला गया और मैं कहीं और चला गया फिर नए दोस्त बने नए जमाना हुआ नहीं बातें हुई नहीं यादें हुई फिर भी यह दोस्त मुझे तू आज भी याद आता है
रो पड़ता हूं मैं जब मुझे गुजरा जमाना याद आता है!!

6. poem for friendship in hindi

मेरा वह दोस्त जो मुझे सबसे प्यारा हुआ करता था
मेरा वह दोस्त जो मुझे सबसे अजीज हुआ करता था
अब वह मेरे साथ नहीं रहता
जो मुझे जान से ज्यादा मोहब्बत किया करता था
उसके घर पर मैं आया जाया करता था
और मैं उससे बातें बहुत सारे किया करता था
वह मेरा दोस्त हमें यह सब को बताया करता था
हम बड़ी शान से जाते थे घूमने और आइसक्रीम खाया करता था पर शायद अब उसे भी वक्त नहीं मिलता
और शायद अब मुझे भी वक्त नहीं मिलता
गुजर गया वह जमाना अब वह दोस्त नहीं मिलता
सब मिलते हैं धोखेबाज और कोई सच्चा यार नहीं मिलता आजकल सब रखते हैं मतलब से रिश्ता
आजकल कोई अच्छा दोस्त नहीं मिलता
कोई कोई ही देता है साथ हमारा
हर कोई यहां सच्चा नहीं मिलता
दोस्ती तो कर लेते हैं लाखों से
पर उस जैसा कोई और नहीं मिलता
दोस्ती तो दोस्ती होती है उसमें अभी तू ही मतलब नहीं रखता हमेशा देने की चाहत होती है लेने की उम्मीद नहीं रखता
और दोस्ती होती है जान से बढ़कर ए मेरे दोस्त
उसमें मैं तेरा और मेरा नहीं रखता
तू बस खुश रहे मैं यही चाहता हूं
मैं इससे ज्यादा तुझ से कोई उम्मीद नहीं रखता
तू मेरे लिए कभी कुछ मत करना
मैं तेरे लिए फिर भी सब कुछ करता
मैंने कभी तुमसे कोई मतलब से दोस्ती नहीं होती
मैंने तुझे सिर्फ दोस्त बनाया है
मैंने तुझे बहुत हंसाया है मैंने तुझे कभी रुलाया नहीं है
और एक दोस्त मुझे याद आता है तू बहुत
मैंने तेरे सिवा किसी और को दोस्त बनाया नहीं है

7. poem for best friend in hindi

चलो हम भी आज एक दूसरे से वादा करते हैं
फिर कभी मिलेंगे दोस्त यह हम इरादा करते हैं
और तेरी दोस्ती नहीं बनाया है मुझे अपना
यह हम आज एलान करते हैं
मैं तेरी दोस्ती को खुदा माना था यह दोस्त
मैं हम तुझे आज भी याद करते हैं
जब भी कभी तेरी याद आती है हम तुझे फिर फोन करते हैं
और जब बैठते हैं महफिल में आज भी तेरी चर्चा होती है
फिर हम तुझे सब बहुत याद करते हैं
और तेरी दोस्ती नहीं मुझे जीना सिखाया है
तेरी दोस्ती नहीं मुझे दोस्त का मतलब समझाया है
मैं तो जानता ही नहीं था कुछ जिंदगी के बारे में
तूने ही मुझे अपना दोस्त बनाया है
मैंने कब कहा था तुझे तू मुझसे दूर चला जाना
मैं नहीं तब तुझे जाना सताया है
मैं हमेशा तुझे परेशान करता था
फिर भी तूने हर वक्त मुझे अपने पास बुलाया है
जब मुझे तेरी जरूरत हुई तो हर वक्त मेरे काम आया है
मैंने तेरा साथ हमेशा दिया है
और तूने भी मेरा साथ हमेशा चाहा है
मैं हमेशा चाहता हूं तू हमेशा खुश रहे
मैं बस यही दुआ करता हूं
तू ऐसे ही तरक्की करता रहे
तू जहां भी रहे खुश रहे हमें भूले ना हमें याद करता रहे
और तेरी दोस्ती हमारी दोस्ती ऐसे ही कायम रहे
और तू मुझे कभी भूले नहीं ऐसे ही याद करता रहे
यह दोस्त मैं तुझसे आज एक वादा करता हूं
तेरे लिए सब कुछ करूंगा यह वादा करता हूं
तेरी दोस्ती को कभी भूल तो नहीं सकता
उसे दिल में रख लूंगा मैं तुझे याद करता हूं
मैंने तेरे जैसा दोस्त कभी दूसरा नहीं देखा
मैं आज भी तेरी दोस्ती की रस्मे वफा याद रखता हूं!!

8. poem on friend in hindi

माना हमारे पास एक दूसरे की कोई तस्वीर नहीं है
फिर भी हमारी दोस्ती किसी से कम नहीं है
हम आज भी एक दूसरे से दोस्ती बहुत रखते हैं
एक दूसरे की दिल से इज्जत बहुत करते हैं
उसकी दोस्ती और मेरी दोस्ती हमेशा कायम रहेगी मेरे दोस्त जरूरत पड़े तो मुझे याद करना
तेरे लिए जान भी हाजिर रहेगी
और तू हमेशा ऐसे ही मुझे याद करते रहना
फिर देख तेरी मेरी यारी में क्या बात रहेगी
हम हमेशा साथ रहेंगे और कभी कभी मुलाकात भी रहेगी
तू कहीं दूर चला जाएगा फिर भी तेरी याद दिल में रहेगी
मानता हूं मशरूफ हो जाएगा अपनी जिंदगी बनाने में
फिर भी कभी-कभी तो दिल में यादें पुरानी रहेंगे
हम मिलेंगे तभी तभी तो वहीं पर
तो फिर से वही बातें रहेंगी दोस्ती दूर जाने से खत्म नहीं होती दिल में हमेशा यादें ताजा रहेंगे और तू मेरा दोस्त बनकर रहना है दोस्त फिर देख तेरी दोस्ती और मेरी दोस्ती में क्या बात रहेगी!!

Poem on friend in hindi: दोस्तों मैं आशा करता हूं आपको आज यह कविताएं Poem on friendship in hindi। poem of friendship in hindi जरूर पसंद आई होंगी आप सब यह तो जानते ही होंगे कि दोस्ती हमारे जीवन में कितना महत्वपूर्ण होती है वह हमारे जीवन में कितना महत्वपूर्ण मानी जाती है क्योंकि दोस्त के बिना कुछ होता ही नहीं है अगर दोस्त होता है तो हम उसे दिल की बात कह देते हैं अगर दोस्त होता है तो हम उसे सुख दुख बांट लेते हैं और अगर दोस्त नहीं होता तो जिंदगी बहुत ही नीरस हो जाती है इसीलिए आप भी दोस्त बनाएंगे दोस्तों से मिलिए और हमेशा सच्चे दोस्त मनाइए मतलबी लोगों से दूर रहिए

अगर आपको हमारी यह कविताएं पसंद आई हो तो आप इसे सोशल मीडिया पर और अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें और ऐसे ही कविताएं और शायरियां पढ़ने के लिए हमारे ब्लॉक पर आते रहें हमारे ब्लॉग पर आने के लिए और यह कविताएं पढ़ने के लिए आपका बहुत-बहुत धन्यवाद।।

3 टिप्पणियाँ

Do not enter any spamming comment

  1. aapke blog ka content shandar hai bs apna theme change kar le fir aapka blog better look me hoga

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. Thank you sir par aap mujhe koi aacha sa theme bata dijiye naa jise mai use kar saku or agar ab maj use karta hu to isse ranking mai koi effect to nahi hoga naa

      हटाएं
  2. Theme Achha Hone se blog ka look achcha aata hai jisse readers ko site me padhne me maja aata hai.. sora templates ke theme achhe hote hai baaki jab aap thoda achcha income krne lago tab aap koi badhiya paid theme kharid lena apni site ke liye and iska search rank me jyada effect nahi padta bs blog achcha look me aa jata hai

    जवाब देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

Do not enter any spamming comment