Friendship story in Hindi। फ्रेंडशिप स्टोरी इन हिंदी

Friendship story in Hindi। फ्रेंडशिप स्टोरी इन हिंदी

Friendship story in Hindi:

आज मै आपके लिए एक बहुत ही अच्छी कहानी Friendship story in Hindi। फ्रेंडशिप स्टोरी इन हिंदी लेकर आया हूं जिसमें आपको दोस्ती के साथ बहुत सारा प्यार और मस्ती भी देखने को मिलेगी तो बिना किसी देरी के शुरू करते है आज की कहानी आज का सफर!!

इन्हें भी पढ़े
Love story in Hindi
Horror story in Hindi
Cute Love Story in Hindi
Emotional love story in Hindi

 Friendship story in Hindi। फ्रेंडशिप स्टोरी इन हिंदी

Friendship story in Hindi। फ्रेंडशिप स्टोरी इन हिंदी

तीन मंजिला घर ,जिसके बाहर name plate लगी हुई है जिसपे लिखा हुआ है " महिया सदन " , पूरी तरीके से दुल्हन की तरह सजा हुआ है जिससे पता चलता है कि घर मे शादी है।बहुत सारे मेहमान आये हुए है ।पूरे घर मे चहल पहल है तभी लगभग साठ साल की एक औरत  जो दुल्हे की माँ है ।एक लड़की के पास आती है जो लगभग छब्बीस सतईस साल की लड़की है और उसे कहती है," माया मार्केट से कुछ सामान लाना है ,अर्जेंट है ! तो किसी से मंगा लो।

माया ::बड़ी मम्मी ,मैं ,मैना दी और अक्षिता दी तो हल्दी की रश्म में बिजी है ,और राहुल और मनमोहन किसी काम से बाहर गए है।तो उन्हें हम भेज नही सकते,एक काम करती हूं उन दोनों लड़कियों को भेज देती हूँ।

तभी दुल्हे की माँ कहती है ,"किन लड़कियो को !
माया :: अरे मम्मी! हमारी ट्विन्स! पूजा ( दीक्षा ) और दीपू ( दीपिका ) को ! वो या तो अभी ड्रेसेज चेक कर रही होंगी या डांस प्रैक्टिस कर रही होंगी।और दोनों के क्या काम है!सारे दिन बस मस्ती!

दीक्षा और दीपिका दोनो कजिन है ।और लगभग 18 साल की है ।दोनो बचपन से साथ है और दोनों के बीच प्यार भी वैसा ही है।❤️इन्फेक्ट सब उन्हें ट्विन्स बुलाते है ।एक जैसी ही हरकतों की वजह से।

ये कहे के माया सीढ़िया चढ़ के दूसरी मंजिल पे चली गयी और एक रूम के दरवाजे को पीटने लगी :अरे लड़कियों ! बाहर निकलो कुछ काम है !

तभी दीपिका ने बस थोड़ा सा दरवाजा खोला और मुँह निकाल के बोली :: क्या काम है ! यंही से बोलो अंदर सीक्रेट प्लानिंग चल रही जिसमें आपका कोई काम नही।

पर माया अंदर चली जाती है और सामने का नजारा देख वैसे ही खड़ी रहे जाती है ,दीपिका और दीक्षा दोनो ही ने जीन्स पहन रखी है ,और अपने ब्लाऊज़ try कर रही है पर दीक्षा के ब्लाऊज़ की ज़िप अटक गई है और वो परेशान हो रही है ,एकता कब से कोशिस कर रही ठीक करने की पर नही हो रही।
ये देख माया हंसते हंसते बेड पे बैठ गयी:: मिंडकी मोटी हो गयी है तू कुछ ज्यादा ही ,बेचारी जीप भी अटक गई!😂😂

दीक्षा:: हाँ हाँ हँस लो सब मेरी परेशानी पे ,और माया मौसी मेरा pet name लेना बंद करो ! और मैं कोई मोटी नही हुई हु ,इन्फेक्ट मैं पतली हो गयी हूँ ,ये तो इस ब्लाऊज़ ने शान ले ली मेरी इसकी तो..😤

माया :: अच्छा अच्छा ठीक है! ये ब्लाऊज़ मैं ठीक कर दूंगी तुम दोनों मार्किट जाओ कुछ सामान लाना है ।

दीपिका :: इस वक़्त हम नहीं जा रहे है ! किसी ओर को पकड़ो इस काम के लिए।

माया :: बड़ी मम्मी ने कहा है !जाना ही पड़ेगा ।
दीक्षा ने मुँह बनाया:: यार नानी को हम ही मिले क्या।

और उसने जल्दी से टॉप पहना और नीचे आके स्कुटी की चाबी उठायी और बहार आ गयी।

दीक्षा :: ड्राइव मैं करूंगी!
दीपिका::ना मेरी माँ ! मुझे आज ही वापिस घर आना है ,ड्राइव मैं ही करूंगी।
दीक्षा ने मुँह बनते हुए चाबी उसकी तरफ उछाल दी ।

इन्हें भी पढ़े
Motivational Story in Hindi
Inspirational story in Hindi

story in hindi about friendship

दोनों मार्किट गयी ,और सारा सामान खरीद लिया वापिस आते वक्त दीक्षा ने कहा:: चल न सितलकुण्ड बालाजी चलते है ! शाम का टाइम है मजा आ जायेगा !

दीपिका ने बिना कुछ कहे स्कूटी उस तरफ मोड़ दी।

मंदिर के बाहर शिव मंदिर मे जल चढ़ाने के लिए दोनों अंदर गयी ,दोनो ने अपने स्कार्फ को सर पे ओढ़ लिया ।
उसके बाद बालाजी के भव्य मंदिर मे प्रवेश किया काफी देर दीक्षा बजरंगबली से बातें करती रही।दीपिका प्रार्थना करने के बाद उसके पास आई :: अगर हनु से बातें हो गयी हो तो चले।

दीक्षा :: वहा मेरी जान! तुझे कैसे पता मैं हनुमानजी को हनु बोलती हूँ।

दीक्षा :: तेरी रग रग पहचानती हूँ! तुजसे दो महीने ही बड़ी हु पर तेरी हरकतें बच्चों जैसी ही है ! तेरा बस चले तो भगवान क्या किसी को भी दोस्त बना ले ।

दीक्षा हँसते हुए बोली :' वहा ! क्या बात है ! but बच्ची जैसी हरकते तो तेरी भी है । हाये ये नुरानी चहरा इस पे कोई भी मर जाये😉

दीपिका:: हट पागल!! कही भी सुरु हो रही ,वैसे कपिल को लाना चाहिए था है ना पूजी ।

दीपिका ने ये जानबूझ के बोला क्योंकि दीक्षा और कपिल  सारे दिन लड़ते है ।और उनकी बिल्कुल नही बनती ।

दीक्षा :: बस मूड का बैंड बजा दिया कर ! क्या जरूरत है उसकी यँहा अब।
दीपिका :: अरे बस ऐसे ही बोला ! मन ओर कपिल कितना हँसाते है ना!
दीक्षा :: मन तो अच्छा है but कपिल उसे बस रुलाना आता है मुझे ,पता नही किस जन्म का बदला ले रहा ।😏

इन्हें भी पढ़े
Real horror story in Hindi
Most romantic love story in Hindi
Love Stories in Hindi

Friendship story in Hindi। फ्रेंडशिप स्टोरी इन हिंदी

दीपिका:' यार वो मुझसे भी ऐसे ही लड़ता है , इन्फेक्ट वो सिर्फ चिढ़ाता है ,और तू चीड़ जाती है ,और कुछ नहीं ,वरना वो दूसरों के सामने तो हमारी कितनी इज़्ज़त करता है।

दीक्षा :: दुसरो के सामने करता है तो ऐसे भी कर ले उसका क्या जाता है ।😏

दीपिका ने सिर पिट लिया :: तुम दोनों का कुछ नही हो सकता  अब चलें।

वो दोनों वापिस घर आ गयी।वहाँ पे सब महन्दी वाली से महन्दी लगवा रही थी ।तो दीक्षा की मम्मी ने उन दोनों को भी बिठा दिया ।

दीक्षा अपना मुंह बना रही थी महन्दी देख के ,और वो दीपिका के पास जाके कान मैं वोली :: यार ये सब कब तक चलेगा ,मुझे तो इस स्मेल से उल्टी हो रही ।

दीपिका :: चुप चाप बैठी रह ! ऊपर तक बनवानी है ।

दीक्षा :: पर कल एग्जाम भी तो है मेरे ! और खाना कौन खिलायेगा ।

तभी बहार से आते हुए मन ओर राहुल बोले :: हम और कौन !
दीक्षा ने कपिल को देख मुँह फेर लिया :: मुझे नहीं खाना तेरे हाथ से !

कपिल :: मेरे हाथ मे क्या जहर है ।ठीक है मत खा मेरा क्या भुखी तू रहेगी ।

महन्दी लगने पर दीक्षा उठ के टेरेस पे चली गयी ।और राहुल दीपिका को खाना खिलाने लगा ।
दीपिका :: ये लड़की न भुखी रह लेगी पर नखरे नही छोड़ेगी! ।
कपिल :: डोंट वरी इसे भुखी रहने नहीं देंगे ।इसे प्रॉब्लम मुझसे है तुजसे नही तू खिला देना।

दीपिका :: पर तु इसे इतना परेशान क्यों करता है !

कपिल :: अपनों को परेशान नही करूँगा तो किसे करूँगा ! बचपन से साथ है और ये आज भी मुझसे ऐसे ही नाराज है।
पर मैने भी खुद को एक्सप्लेन नही किया क्योंकि मैं चाहता हु ये खुद मुझे समझे ।

उन दोनों ने खाना खत्म किया ।और दीपिका अपनी महन्दी साफ कर खाना टेरेस पे ले आयी ।वो अभी भी घूम रही थी ।
दीपिका ने दो चेयर ली और उसे भी अपने पास बिठाया और खाना खिलाने लगी।

दीपिका :: वो इतना भी बुरा नहीं है ! वो तुझे तंग नही करता बस मस्ती करता रहता है ।
दीक्षा :: उसकी तरफदारी तो कर ही मत ! वो कोई भोला वोला नही है ! वो कजीन नही बल्कि दुश्मन वाले काम करता है !

दीपिका:: चील करेगी अब!
दोनों ने खाना खत्म किया।और दीक्षा अब शांत थी ।

दीपिका :: अच्छा बता हम दोनों मैं मस्तीखोर को है ।
दीक्षा :: offcourse तू है !😛
दीपिका :: अच्छा ओर समझदार?
दीक्षा :: offcourse मैं !😛
दीपिका :: और तू अपनी हर बात किससे  शेयर करती है ?
दीक्षा :: तुजसे ! इन्फेक्ट मैं तो ये भी बता देती हूं कि कितने लड़को के मैसेज आये मुझे 😒
दीपिका हँस पड़ी :: 😂यानी तू मुझे सब बताती है ! तो तुझे कौन अच्छे से जानता है !
दीक्षा :: मम्मी पापा के बाद तुम ! क्योंकि मैं तुजसे अपने दिल की हर बात शेयर करती हूं।
दीपिका ":: तो अब मैं ही बोल रही हु ,उसके साथ चिल करना सीख उसके मजाक तुजे इरिटेट नही करेंगे बस हसाएंगे।

Friendship story in Hindi। फ्रेंडशिप स्टोरी इन हिंदी

दीक्षा ने भी हाँ मैं सर हिला दिया और दीपिका ने उसे गले लगा लिया ।दोनो नीचे आ गयी और सोने चली गयी ।

दीपिका की आदत थी वो अपने पास सोने वाले के पैरों के ऊपर पैर रखती है और दीक्षा को ये पसंद नही।

दीक्षा :: यार जान लेगी क्या मेरी ! प्लीज साइड हो जा ,मुझे नींद नहीं आ रही ।

दीपिका नींद में :: बाबू आ जायेगी नींद प्लीज् सो जाओ न !

दीक्षा ने उसे अपने से दूर किया ::यार इतना बड़ा बेड पड़ा है कहीं भी सो जा ,मुझे ये चिपका चिपकी पसंद नहीं ! प्लीज साइड हो जा !

दीपिका फिर उसे गले लगा के सो गई ,और दीक्षा क्या कर सकती थी उसे ऐसे सोना ही पड़ा ।

अगली सुबह..
दीक्षा एग्जाम  के लिए तैयार होते हुए एक पिलो उठती है और दीपिका के मुँह पे दे मरती है :: उठ जा कुंभकरण! मैं तो जा रही कॉलेज ! वापिसआऊं तब तक मेरे बिना खाना मत खाना अगर खा लिया तो देख लेना ।

दीपिका नींद मैं ही बड़बड़ाती है :: अरे जा मेरी माँ! नही जा रही तेरे बिना कंही ,तू कहे तो तेरे साथ चलु!

दीक्षा मुस्कुराते हुए और जल्दी मे बालों की पोनी टेल बनाते हुए निकल गई।
बहार कपिल बाइक लेके खड़ा था ,दीक्षा बिना कुछ बोले बाइक के पीछे बेठ गयी ।

कड़ाके की ठंड पड़ रही थी ,और राहुल बिना कोट के था उसे देख दीक्षा बड़बड़ाई :: कैसा लड़का है कम से कम कोट तो पहनना था ,अब शर्दी लग जायेगी ।

कपिल :: अच्छा आज मेंढकों को मेरी फिकर कैसे हुई !
दीक्षा को गुस्सा आया but दीपिका की बात याद कर वो शांत हुई :: वो क्या है ना बीमार तुम होओगे और डॉक्टर्स को परेशान करोगे तो बस उनकी फिकर हो रही थी ।

कपिल हँस दिया और दीक्षा भी ।उसने दीक्षा को ड्राप किया और जाते हुए बोला !:: आल दा बेस्ट !
दीक्षा :: थैंक्स!
कपिल :: अरे तुम्हे नही बेचारे उन टीचर्स को जो तुम्हारी कॉपी चेक करेंगे ।

दीक्षा हँस पड़ी ::तुम कभी नही सुधर सकते ना!
कपिल :: अरे हम तो पैदा ही बिगड़ने के लिए हुए है !😂

कपिल चला गया ,और दीक्षा दीपिका ने जो बातें कही उनके बारे मे सोच रही थी कि सही तो कहा उसने की वो सिर्फ उसे हँसाने की कोशिस करता है ,और अगर वो साथ देगी तो ये कोशिस भी मुकमल हो जाएगी । क्यों आखिर वो उनलोगो से भी दूर रहती है जो उसे हँसाते है ! but अब वो ऐसा नहीं करेगी ये सोच और दीपिका को मन मे थैंक्स बोला और कहा :: रियली यु आर माई सेकंड हार्ट! सब कुछ सॉल्व कर देती है तू ! मैं सच मैं बहुत लकी हु जो तू मेरे पास है ।❤️❤️

और कॉलेज के अंदर चली गयी।

Story in hindi about friendship: आपको हमारी आज कि कहानी Friendship story in Hindi कैसी लगी आप हमें कॉमनेट करके जरुर बताएं और हमारे ब्लॉग पर आते रहे!!

इन्हें भी पढ़े:
Sad love story (दुःख भरी प्रेम कहानी)
Love story in Hindi ( मीरा और एसीपी कबीर )
Short Love story in hindi (मेरी मोहब्बत)
True love story in hindi ( ये प्यार है)


एक टिप्पणी भेजें

Do not enter any spamming comment